Facebook SDK

मैं और मेरे एहसास । Best poem in hindi

    मैं और मेरे एहसास
 आज फिर किसी ने दिल में दस्तक दी । 
पर वह तो किसी और का ही है, 
 फिर भी ना  जाने क्यों मैं उसे समझना चाहता हूं । 

क्या  करें दिल तो दिल है ना,  किसी की सुनता ही नहीं । 
मैं कई दफा उससे दूर जाने की कोशिश कर चुका हूं । 
फिर भी ना जाने क्यों मैं उसे समझना चाहता हूं । 

इस दुनिया की भीड़ में , 
कई रास्ते हैं कई मंजिलें हैं । 
पर क्यों मैं उसी रास्ते में चलना चाहता हूं। 

 फिर भी ना जाने क्यों मैं उसे समझना चाहता हूं  । 
कईयों को मैंने खो दिया , 
कई मिलकर बिछड़ गए । 
ना जाने क्यों उसे नहीं खोना चाहता हूं । 
हां मैं सिर्फ उसे ही समझना चाहता हूं । 

वह नहीं तो मैं ही सही
 वह साथ नहीं तो मैं अकेले ही सही । 
हर एक गम से लड़ना चाहता हूं।  ना जाने क्यों मैं उसे समझना चाहता हूं 

उसके जाने से फर्क तो बहुत पड़ेगा
 पर क्या करें उससे जाना तो पड़ेगा 
पार फिर भी उसके साथ रहने  के पल चाहता हूं । 
ना जाने क्यों मैं उसे समझना चाहता हूं । 

मैंने उसे खोने के डर से रो दिया पर उसने सिर्फ मुझे खुशियां ही दी । 
उन खुशियों के पलों को हमेशा के लिए संजोना चाहता हूं । 
ना जाने क्यों मैं उसे समझना  चाहता हूं । 
ना जाने क्यों मैं उसे समझना चाहता हूं।


पंकज सहगल
बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश

Post a comment

112 Comments

  1. Waah kya dil se likha h ...👌✨♥️🙏❤️

    ReplyDelete
  2. Very nice ����������������������

    ReplyDelete
  3. Very nice waah kya likha hai 👌👌👌🤗🤗

    ReplyDelete
  4. Jane kyu me in lines ko fir se phdna cahta hun

    ReplyDelete
  5. Heart touching lines...apne Jivan se judi sachi baton ka jikar hmein aaj yhan pdne ko mila.. Chhoti si kavita bahut jyada mahatv...

    ReplyDelete
  6. Wah kya bat h 👌🏾👌🏾👍👍
    Bhut ache

    ReplyDelete
  7. पंकज सहगल!
    जितना अच्छा इनका व्यक्तित्व उससे भी अच्छा इनका लेखन। मुझे दिल से खुशी है कि पंकज एक अच्छे इंसान होने के साथ साथ एक बहुत अच्छे लेखक भी हैं। आपकी यह रचना पढ़ कर मुझे बेहद खुशी हुई कि ज़िन्दगी से जुड़ी मुश्किल बातों को आपने इतनी सहजता से लिख दिया। आपके कदम यूंही आगे बढ़ते रहें, ईश्वर आपको खुश रखे व आप तरक्की के रास्ते पर बढ़ते चले जाएं।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद भाई जी .. 🙏 🙏 🙏 ❤

      Delete
  8. Heart touching lines ❤️❤️❤️

    ReplyDelete
  9. Heart touching lines ❤️❤️❤️🔥🔥🔥🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  10. So nice bro, dil ko chu liya, kya baat hai,😍😍😍😍🤗🤗

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बढ़िया मेरे भाई।लगे रहो हमेशा।

    ReplyDelete
  12. वाह बहुत खूब!
    सुंदर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. Beautifully written! Great job! 👌😀❤️

    ReplyDelete
  14. Heart touching poem 👌👌👍

    ReplyDelete
  15. খুব ভালো লিখেছেন । ভবিষ্যতে আরও ভালো কবিতা উপহার দেবেন আশা করি।

    ReplyDelete
  16. You should open a youtube channel .

    ReplyDelete
  17. Wow. Such a beautiful poem.

    ReplyDelete
  18. क्या खूब लिखा है आपने।

    ReplyDelete
  19. Awasome poem.

    ReplyDelete
  20. I just loved this poem.

    ReplyDelete
  21. Such a beautiful and innocent feeling is portrayed in this poem

    ReplyDelete
  22. Please keep writing such wonderful poem.

    ReplyDelete
  23. Thanks for gifting us this poem .

    ReplyDelete
  24. I want to write such sweet poem. Can you please teach me?

    ReplyDelete
  25. Heart touching poem

    ReplyDelete
  26. 👏👏👏👏👏👏👏

    ReplyDelete
  27. मस्त कविता है।

    ReplyDelete
  28. So good.Are you a poet by profession?

    ReplyDelete
  29. I can feel the poem.Awasome job.

    ReplyDelete
  30. So heart touching

    ReplyDelete
  31. Who is your inspiration ?

    ReplyDelete
  32. Please keep writing

    ReplyDelete
  33. Terrific poem

    ReplyDelete
  34. Excellent poem

    ReplyDelete
  35. Splendid poem

    ReplyDelete
  36. Wow.So sweet.

    ReplyDelete
  37. 😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘

    ReplyDelete
  38. बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  39. लिखते रहिए

    ReplyDelete
  40. बहुत अच्छा है भईया।

    ReplyDelete
  41. So heart touching uncle.

    ReplyDelete
  42. I can relate with this poem.

    ReplyDelete
  43. Wah .kya likha hai.

    ReplyDelete
  44. Khub bhalo babumosai.

    ReplyDelete
  45. Sending love from Kolkata.

    ReplyDelete
  46. Subho noboborsho in advance.Very nice poem .

    ReplyDelete
  47. Khub bhalo laglo

    ReplyDelete
  48. Khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub khub bhalo

    ReplyDelete
  49. 👍👍👍👍👍👍👍👍👍

    ReplyDelete
  50. Please provide more poems.

    ReplyDelete
  51. Kya khub likha hai

    ReplyDelete
  52. Anurag from Kolkata. Very nice poem.

    ReplyDelete

If you have any doubts. Please let me know